उत्तर प्रदेश

चिन्मयानंद केस : स्वामी के वकील बोले- ‘जज साहब जांच पूरी हो गई है, अब मेरा मोबाइल वापस करा दीजिए’

 शाहजहांपुर 
                                                                                                                                                                  
चिन्मयानंद के वकील ओम सिंह ने सीजेएम कोर्ट में अपना मोबाइल एसआईटी के कब्जे से वापस दिलाने की गुहार लगाई है। ओम सिंह ने अपना मोबाइल खुद ही एसआईटी को जांच के लिए दिया था, ताकि एसआईटी फॉरेंसिक लैब से इस बात की पुष्टि करा ले कि उन्होंने 22 अगस्त को ही चिन्मयानंद द्वारा भेजे गए मैसेज को एसपी चनप्पा को भेजा था या नहीं।

एसआईटी ने चिन्मयानंद और वकील ओम सिंह के समेत तीन मोबाइल गांधीनगर स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला भेजे थे। वहां इस बात की पुष्टि होनी थी कि चिन्मयानंद के मोबाइल पर संजय ने जो रंगदारी का मैसेज भेजा था, वह सही था या नहीं। उस मैसेज को रिकवर भी किया जाना था। दूसरा यह कि ओम सिंह के मोबाइल पर चिन्मयानंद ने 22 अगस्त को संजय द्वारा मैसेज फॉरवर्ड किया या नहीं और ओम सिंह द्वारा चिन्मयानंद के भेजे गए मैसेज को एसपी को फॉरवर्ड किया था या नहीं। गुजरात के गांधीनगर स्थित विधि विज्ञान प्रयोगशाला में जांच के बाद पुष्टि हो गई और सबूत भी मिल गया।

चिन्मयानंद के मोबाइल पर रंगदारी का मैसेज भेजा गया था। साथ ही स्क्रीनशॉट भी सेंड किया था। उस वक्त चिन्मयनंद हरिद्वार में थे और वहां से एसपी को मैसेज नहीं भेज पा रहे थे, तब उन्होंने ओम सिंह के मोबाइल पर संजय द्वारा भेजे गए मैसेज स्क्रीनशॉट को फॉरवर्ड किया। चिन्मयानंद ने ओम सिंह से कहा कि वह मैसेज को एसपी को भेजकर मुकदमा दर्ज कराएं।

ओम सिंह ने 22 अगस्त को ही चिन्मयानंद द्वारा फॉरवर्ड किए गए मैसेज को एसपी के मोबाइल पर भेजा था। जिसकी विधि विज्ञान प्रयोगशाला से पुष्टि हुई है। इसके बाद ओम सिंह ने सीजेएम कोर्ट को प्रार्थना पत्र देकर गुहार लगाई है कि अब जांच पूरी हो चुकी है। इसकी रिपोर्ट भी आ गई है, इसलिए एसआईटी के कब्जे में मौजूद मोबाइल वापस कराया जाए। इस संबंध में कोर्ट ने एसआईटी से आख्या तलब की है।

Related Articles

Back to top button
Close
Close