देश

दिवाली, छठ त्योहार के लिए 200 स्पेशल ट्रेनें चला रहा रेलवे, 2,500 से अधिक फेरे

नई दिल्ली
दिवाली तथा छठ पूजा के मौके पर लोगों को घर जाने में कोई परेशानी नहीं हो, इसके लिए रेलवे जोर-शोर से इंतजाम में लगी हुई है। रेलवे ने महत्वपूर्ण रूटों पर न केवल ट्रेनों की संख्या में इजाफा किया है, बल्कि नियमित रेलगाड़ियों में बोगियों की संख्या भी बढ़ाई जा रही है। भारतीय रेलवे ने शुक्रवार को कहा कि त्योहारों के चलते यात्रियों की भारी संख्या को देखते हुए देशभर में क्रिसमस तक 200 जोड़ी विशेष रेलगाड़ियों के जरिए 2,500 से अधिक फेरे या अतिरिक्त सेवाएं चलाई जा रही हैं। त्योहारों के मौसम में रेल यात्रियों की सुविधा और यात्रियों की भीड़ को देखते हुए रेलवे इस साल दुर्गा पूजा से क्रिसमस तक 200 जोड़ी विशेष रेलगाड़ियां चला रहा है।

नियमित ट्रेनों में डिब्बों की संख्या बढ़ी
रेलवे ने बयान में कहा कि इसके अलावा, नियमित रेलगाड़ियों में डिब्बों की संख्या बढ़ाई जा रही है, ताकि अधिक से अधिक यात्रियों को सीट मिल सके। रेलवे ने दिल्ली-पटना, दिल्ली-कोलकाता, दिल्ली-मुंबई, मुंबई-लखनऊ, चंडीगढ़-गोरखपुर, दिल्ली-छपरा, हावड़ा-कटिहार, हरिद्वार-जबलपुर आदि क्षेत्रों पर विशेष रेलगाड़ी चलाने की योजना बनाई है।

सुरक्षा की तगड़ी व्यवस्था
अनारक्षित डिब्बों में यात्रियों के क्रमबद्ध प्रवेश के लिए टर्मिनस स्टेशनों पर आरपीएफ कर्मचारियों द्वारा निगरानी की जा रही है। यात्रियों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रमुख स्टेशनों पर आरपीएफ के अतिरिक्त जवानों को तैयात किया गया है। बयान में कहा गया है कि व्यस्त रेलवे क्षेत्रों में सुरक्षाकर्मियों की तैनाती के साथ ही इंजिनियरिंग, सिग्नल और टेलिकम्युनिकेशन विभाग के अतिरिक्त कर्मचारियों को तैनात किया गया है।

चिकित्सा सुविधा की भी व्यवस्था
बयान के मुताबिक, स्टेशनों और प्रमुख क्रासिंग फाटकों पर रोशनी के पर्याप्त प्रबंध किए गए हैं। रेलगाड़ियों की सुचारु आवाजाही के लिए अधिकारियों को आपातकालीन ड्यूटी पर तैनात किया गया है। इसमें कहा गया है कि स्टेशनों पर रेलगाड़ियों के आगमन और प्रस्थान की सूचना देने के लिए अतिरिक्त उपाए भी किए गए हैं। रेलवे स्टेशनों को निर्देश दिया गया है कि महत्वपूर्ण स्टेशनों पर ‘सहायता केंद्रों’ की स्थापना की जाए। इसके अलावा, रेलवे स्टेशनों पर चिकित्सकों के दल और एम्बुलेंस भी उपलब्ध हैं।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close