मध्य प्रदेश

लाखों कर्मचारियों में निराशा, स्लो सर्वर से डेढ़ लाख सरकारी कर्मचारियों की सैलरी अटकी

भोपाल
दिवाली से पहले वेतन का इंतजार कर रहे लाखों कर्मचारियों को निराशा हाथ लगी है| आदेश के बावजूद सरकार 24 और 25 अक्टूबर को कर्मचारियों के खाते में सैलरी नहीं डाल पाई| स्लो सर्वर ने डेढ़ लाख सरकारी कर्मचारियों की सैलरी अटका दी। जिस आईएमएफएस सर्वर के जरिए विभागों के कोषालयों में बिल जनरेट होते हैं, वह शुक्रवार दिनभर धीमा रहा। जिसके चलते प्रदेश के 1.30 लाख कर्मचारियों को अक्टूबर माह का वेतन नहीं मिल सका, वहीं राज्य मंत्रालय में भी सिर्फ 50 फीसदी कर्मचारियों को ही वेतन मिल सका।

दीवाली से पहले अधिकारी-कर्मचारी मोबाइल पर टकटकी लगा रखी थी, लेकिन शुक्रवार देर शाम तक कइयों के पास मैसेज नहीं पहुंचा| ऐसे में शनिवार को बाकी 1.30 लाख कर्मचारियों का भी वेतन आने की संभावना है। वहीं दिवाली से पहले वेतन देने के आदेश के वावजूद सैलरी नहीं हो पाने पर मंत्री पीसी शर्मा ने कहा है कि सरकार ने आदेश दिए हैं कल तक सभी कर्मचारियों को वेतन मिल जाएगा|

बता दें कि दीपावली को देखते हुए कर्मचारी संगठनों ने अक्टूबर का वेतन नवंबर के बजाय दिवाली से पहले ही खाते में डालने की मांग की थी। इस सम्बन्ध में कर्मचारी संगठन  वित्त मंत्री से भी मिले थे। इस पर शासन ने 24-25 अक्टूबर को वेतन देने संबंधी जारी किए थे। लेकिन इस आदेश पर पूरी तरह अमल ही नहीं हो पाया| कर्मचारियों की इस मांग पर देरी से विचार किया गया जिसके चलते अंतिम समय में स्लो सर्वर के कारण सभी के खाते में वेतन नहीं आ पाया| आदेश आने के बाद विभाग वेतन तैयार करने में जुट गए थे, लेकिन बिल जनरेट करने संबंधी पूरी प्रक्रिया में कम से कम तीन दिन का वक्त लगता है।

Related Articles

Back to top button
Close
Close