स्वास्थ्य

यूरिन करते समय दर्द या जलन की समस्या को न करे अनदेखा

यूरिन करते समय दर्द, जलन या कोई दूसरी समस्या महसूस होना आम बात है। लेकिन अक्सर हम ऐसी समस्या को लेकर डॉक्टर के पास जाने में आनाकानी करते हैं। हम तब तक इस तरह की दिक्कत को अनदेखा करते हैं, जब तक कि यह असहनीय ना हो जाए। ऐसा करके हम अपनी ही स्थिति को और अधिक खराब कर लेते हैं…

क्यों होती है यह दिक्कत?
यूरिन से जुड़ी यह समस्या आमतौर पर महिलाओं में होती है। मेडिकल भाषा में इस तरह की बीमारी को डिस्यूरिया नाम से जाना जाता है। यह एक प्रकार का इंफेक्शन है, जो योनि में किसी अनचाहे बैक्टीरिया के पनप जाने पर होता है। विशेषज्ञों के अनुसार, आमतौर पर इस तरह की दिक्कत महिलाओं को 20 से 50 वर्ष की आयु के दौरान होती है।

ये हैं इस इंफेक्शन के लक्षण
ऐसा नहीं है कि यह समस्या सिर्फ महिलाओं के साथ ही होती है। पुरुष भी इस तरह की समस्या से ग्रसित हो सकते हैं। ऐसा मूत्र मार्ग के जरिए किसी बैक्टीरिया का यूरिनरी सिस्टम और ब्लेडर तक फैलने पर होती हैं। इस दौरान प्रभावित व्यक्ति को यूरिन में बहुत स्मेल आना, बार-बार यूरिन पास होना, यूरिन के साथ ब्लड आना, चेस्ट और बैक में दर्द होना या जल्दी-जल्दी बुखार के रूप में भी सामने आ सकते हैं।

पुरुषों में होते हैं इस तरह के लक्षण
अगर डिस्यूरिया की समस्या पुरुषों में होती है तो उन्हें प्रोस्टेट से जुड़ी दिक्कतें होती हैं। इसमें स्वेलिंग हो सकती है, इजेक्यूलेशन के वक्त दर्द हो सकता है, यूरिन पास करते समय दर्द हो सकता है और बार-बार यूरिन आने की समस्या हो सकती है।

यह भी होता है एक कारण
यूरिन से जुड़ी समस्या होने पर ना केवल संक्रमण बल्कि स्टोन या पथरी होने का भी संदेह रहता है। यूरिनरी सिस्टम स्टोन हो जाने पर भी बार-बार यूरिन आना, यूरिन का कलर, धुंधला, पिंक या सॉइल जैसा दिखना, मन खराब रहना, वॉमिट होना, शॉल्डर और बैक में दर्द रहना और बुखार होने जैसी दिक्कते रह सकती हैं।

Related Articles

Back to top button
Close
Close