गैजेट

हजारों ऐंड्रॉयड फोन में नया Xhelper मैलवेयर, नहीं हो रहा डिलीट

पिछले कुछ महीनों से सैकड़ों ऐंड्रॉयड यूजर्स एक नए मैलवेयर की शिकायत कर रहे हैं। यूजर्स का कहना है कि यह मैलवेयर डिलीट करने के बाद दोबारा फोन में इंस्टॉल हो जा रहा है। इतना ही नहीं, स्मार्टफोन को फैक्ट्री रिसेट करने के बाद भी यह वापस फोन में आ जा रहा है। Xhelper नाम के इस मैलवेयर ने पिछले 6 महीनों में 45 हजार से ज्यादा ऐंड्रॉयड डिवाइसेज को प्रभावित किया है।

यह मैलवेयर लगातार बढ़ रहा है। Symantec की लेटेस्ट रिपोर्ट में कहा गया है कि एक्सहेल्पर रोजाना करीब 131 और हर महीने औसतन 2,400 ऐंड्रॉयड डिवाइसेज को प्रभावित कर रहा है। इस मैलवेयर से सबसे ज्यादा भारत, अमेरिका और रूस के यूजर्स प्रभावित हैं।

थर्ड-पार्टी ऐप के माध्यम से कर रहा एंट्री
Malwarebytes की रिपोर्ट के मुताबिक, इस मैलवेयर का सोर्स 'वेब रिडायरेक्ट' है, जो यूजर्स को ऐंड्रॉयड ऐप होस्ट करने वाले वेब पेज पर भेजता है। ये वेबसाइट्स यूजर्स को बताती हैं कि प्ले स्टोर के बाहर अनऑफिशल ऐंड्रॉयड ऐप्स को साइड-लोड कैसे करें। इन अनऑफिशल ऐप्स में छिपा हुआ कोड xHelper ट्रोजन डाउनलोड करता है।

पैसा कमाने का जरिया?
रिपोर्ट्स की मानें, तो अच्छी बात यह है कि यह ट्रोजन यूजर्स को कोई बड़ा नुकसान नहीं पहुंचा रहा है। दोनों संस्थाओं, यानी Malwarebytes और Symantec के मुताबिक, इस ट्रोजन ने अभी तक ज्यादातर पॉपअप विज्ञापन और नोटिफिकेशन स्पैम दिखाए हैं। ये विज्ञापन और नोटिफिकेशन यूजर्स को प्ले स्टोर पर रिडायरेक्ट करते हैं, जहां उन्हें अन्य ऐप्स इंस्टॉल करने को कहा जाता है। इससे माना जा रहा है कि एक्सहेल्पर गैंग 'पे-पर-इंस्टॉल' कमिशन (ऐप इंस्टॉल कराने पर मिलने वाला कमिशन) से पैसा कमा रहे हैं।

अलग तरह से करता है काम
खास बात यह है कि एक्सहेल्पर अन्य ऐंड्रॉयड मैलवेयर की तरह काम नहीं करता। पहले यह ट्रोजन एक ऐप के माध्यम से ऐंड्रॉयड डिवाइस में ऐक्सेस पाता है। इसके बाद एक्सहेल्पर उस डिवाइस में अलग से इंस्ट्रॉल हो जाता है। जिस ऐप के माध्यम से यह डिवाइस में आया है, उसे अनइंस्टॉल करने के बाद भी एक्सहेल्पर डिवाइस से रिमूव नहीं होता। तब भी यह डिवाइस में रहता है और पॉपअप व नोटिफिकेशन स्पैम दिखाता है।

फैक्ट्री रिसेट पर भी नहीं हो रहा रिमूव
ऐंड्रॉयड डिवाइस के ऐप सेक्शन से एक्सहेल्पर को अनइंस्टॉल करने के बाद हर बार यह दोबारा इंस्टॉल हो जाता है। डिवाइस को फैक्ट्री रिसेट करने के बाद भी यह फिर से इंस्टॉल हो जाता है। पिछले कुछ महीनों में कई यूजर्स ने एक्सहेल्पर अनस्टॉल न होने की शिकायत Reddit, Google Play Help और अन्य सपॉर्ट फोरम पर की है।

Related Articles

Back to top button
Close
Close