विश्व

 ‘सवास्दी मोदी’ में बोले PM- हम उन लक्ष्यों के लिए कर रहे काम, जो पहले लगते थे असंभव

 बैंकॉक
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक में ‘सवास्दी PM मोदी’ कार्यक्रम को संबोधित कर रहे हैं. पीएम मोदी ने भारतीय समुदाय के लोगों को संबोेधित करते हुए कहा कि थाईलैंड के कण-कण में अपनापन नजर आता है. थाईलैंड में भारतीयता की महक हम जरूर महसूस करते हैं.

हाउडी मोदी की तर्ज में बैंकॉक में पीएम मोदी के सम्मान में ‘सवास्डी PM मोदी’ कार्यक्रम आयोजित किया गया है. बैंकॉक के निमिबुत्र स्टेडियम में ‘सवास्डी PM मोदी’ कार्यक्रम को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि प्राचीन सुवर्णभूमि, थाइलैंड में आप सभी के बीच हूं तो लगता ही नहीं है कि कहीं विदेश में हूं. ये माहौल, ये वेशभूषा, हर तरफ से अपनेपन का आभास मिलता है, अपनापन झलकता है. आप भारतीय मूल के हैं सिर्फ इसलिए नहीं, बल्कि थाइलैंड के कण-कण, जन-जन में भी अपनापन नज़र आता है.

पीएम मोदी ने कहा कि यहां की बातचीत में, यहां के खान-पान में, यहां की परंपराओं में, आस्था में, आर्किटेक्चर में, भारतीयता की झलक है. पूरे विश्व ने अभी दीवाली का त्यौहार मनाया है. आज छठ का बहुत बड़ा त्योहार है. थाईलैंड की यह मेरी पहली आधिकारिक यात्रा है. तीन साल पहले थाईलैंड नरेश के स्वर्गवास पर मैंने शोक संतप्त भारत की ओर से उन्हें श्रद्धांजालि अर्पित की थी.

भारतीय समुदाय के लोगों को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आज थाईलैंड के नए नरेश के राज-काल में, अपने मित्र प्रधानमंत्री प्रयुत चान ओ च के निमंत्रण पर मैं भारत-आसियान समिट में भाग लेने यहां आया हूं.

पीएम मोदी ने कहा कि हमारे रिश्ते सिर्फ सरकारों के बीच के नहीं हैं. सरकारों ने तो इन्हें बनाया भी नहीं है. इन्हें इतिहास ने बनाया है. भगवान राम की मर्यादा और बुद्ध की करुणा हमारी साझी विरासत है. करोड़ों भारतीयों का जीवन जहां रामायण से प्रेरित होता है, वही दिव्यता थाईलैंड में रामाकियन की. भारत और थाईलैंड की जीवनशैली भी साझी है.
पीएम मोदी ने कहा कि ये रिश्ते दिल के हैं, आत्मा के हैं, आस्था के हैं और अध्यात्म के हैं. भारत का नाम पौराणिक काल के जंबूद्वीप से जुड़ा है. वहीं थाइलैंड सुवर्णभूमि का हिस्सा था. हजारों साल पहले भारत और थाईलैंड के रिश्ते समुद्री रास्ते जुड़े थे. हमारे नाविकों ने तब समुद्र की लहरों पर हजारों मील का फासला तय करके समृद्धि और संस्कृति के जो सेतु बनाए वे अब भी विद्यमान हैं.

मोदी ने बताया सवास्दी का मतलब
थाईलैंड में पीएम मोदी ने कहा कि भारत की अयोध्या नगरी, थाईलैंड में आ-युथ्या हो जाती है. जिन नारायण ने अयोध्या में अवतार लिया, उन के पावन-पवित्र वाहन – ‘गरुड़’ के प्रति थाईलैंड में अप्रतिम श्रद्धा है. हम भाषा के ही नहीं, भावना के स्तर पर भी एक दूसरे के बहुत नजदीक हैं. इतने नजदीक कि कभी-कभी हमें इसका आभास भी नहीं होता. जैसे आपने मुझे कहा सवास्दी मोदी. सवास्दी का संबंध संस्कृत के शब्द स्वस्ति से है. इसका अर्थ है- सु प्लस अस्ति, यानि कल्याण यानी आपका कल्याण हो. अभिवादन हो, आस्था हो, हमें हर तरफ अपने नजदीकी सम्बन्धों के गहरे निशान मिलते हैं.

आतंक और अलगाव के बहुत बड़े कारण से देश को किया मुक्तः मोदी
पीएम मोदी ने कहा कि भारत में सार्थक बदलाव नजर आता है. 130 करोड़ भारतीय न्यू इंडिया के कार्यक्रम में लगे हुए हैं. पीएम मोदी ने कहा कि हम उन लक्ष्यों के लिए काम कर रहे हैं, जो पहले असंभव लगते थे. आप सभी इस बात से परिचित हैं कि आतंक और अलगाव के बीज बोने वाले एक बहुत बड़े कारण से देश को मुक्त करने का निर्णय भारत ने लिया. उन्होंने कहा कि जो काम करता है, लोग उसको काम देते हैं और उम्मीद करते हैं.

पीएम मोदी ने संत थिरु वल्लुवर का किया जिक्र
पीएम मोदी ने कहा कि संत थिरु वल्लुवर ने कहा था कि ​ताड़ात्रि दंड पोरूड़ेल्ल ​डक्करक्क वेल्ड़ामि सइदर पुरूट्ट. यानी योग्य व्यक्ति परिश्रम से जो धन कमाते हैं उसे दूसरों की भलाई में लगाते हैं. भारत और भारतीयों का जीवन आज भी इस आदर्श से प्रेरणा लेता है. पीएम मोदी ने कहा कि मुझको 3-4 साल पहले संत थिरु वल्लुवर की महान कृति थिरुक्कुराल के गुजराती अनुवाद को लॉन्च करने का अवसर मिला था.

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close