विश्व

इंडियन आर्मी चीफ नरवणे की चेतावनी पर चिढ़ा पाक, बोला- हमने बालाकोट के बाद दी थी कड़ी चुनौती

 
इस्लामाबाद

पाकिस्तान ने भारत के नए आर्मी चीफ जनरल मनोज मुकुंद नरवणे के उस बयान को खारिज कर दिया है जिसमें उन्होंने पाक को आतंक फैलाने की हरकत न रोकने पर कार्रवाई की चेतावनी दी थी। इसने साथ ही दावा किया बालाकोट स्ट्राइक के बाद इसने भारतीय सेना को कड़ी चुनौती थी। मुंबई हमले के मास्टरमाइंड को पनाह देने वाले पाक ने आगे यहां तक दावा किया कि उसका देश शांति की दिशा में काम कर रहा है। बता दें कि नरवणे ने पदभार ग्रहण करने के बाद कहा था कि अगर पाक अपनी जमीन से प्रायोजित होने वाले आतंकवाद को नहीं रोकता है तो भारत के पास एहतियातन आतंकी अड्डों पर हमले करने का अधिकार है।
उधर, जनरल नरवणे के बयान पर पाकिस्तान के विदेश मंत्रालय ने बुधवार को बयान जारी कर कहा कि हम पीओके में एलओसी की तरफ से भारत के एहतियातन कदम उठाने के भारत के नए आर्मी चीफ के बयान को खारिज करते हैं। पाक विदेश मंत्रालय यहीं नहीं रुका और गीदड़भभकी देते हुए कहा, 'भारत के किसी भी आक्रामक कदम को नाकाम करने के लिए पाकिस्तान के संकल्प और तत्परता को लेकर कोई संदेह नहीं रहना चाहिए।'

बालाकोट स्ट्राइक का उल्लेख करते हुए पाक विदेश मंत्रालय ने कहा, 'भारत के बालाकोट के दुस्साहस का पाकिस्तान की तरफ से दिए गए जवाब को किसी को नहीं भूलना चाहिए।' उल्लेखनीय है कि पिछले साल फरवरी में पुलवामा अटैक के बाद भारतीय वायु सेना ने 26 फरवरी को पीओके और पाकिस्तान के खैबरपख्तूनख्वा में मौजूद आतंकी शिविरों पर हमला किया था। पुलवामा अटैक में सीआरपीएफ के 40 जवान शहीद हो गए थे। भारत की कार्रवाई के अगले दिन 27 फरवरी को पाकिस्तानी वायु सेना के जेट ने कश्मीर में भारतीय सीमा के अंदर घुसने का प्रयास किया, जिसे भारतीय वायु सेना ने खदेड़ कर भगा दिया था।

दरअसल, नरवणे ने पीटीआई को दिए इंटरव्यू में कहा था, 'अगर पाकिस्तान अपनी जमीन से प्रायोजित होने वाले आतंकवाद पर रोक नहीं लगाता, हम आतंकी खतरे के स्रोत पर एहतियातन हमला करने का अधिकार रखते हैं और हमने यह सर्जिकल स्ट्राइक और बालाकोट ऑपरेशन से यह जाहिर कर दिया है।'

पूरी दुनिया को यह बात पता है कि 26/11 मुंबई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद पाकिस्तान में है, लेकिन बावजूद इसके पाकिस्तान शांति का दावा करता है। पाक ने एकबार फिर इसे दोहराते हुए कहा कि हम क्षेत्र और उससे बाहर शांति, सुरक्षा और स्थिरता के लिए अपना प्रयास जारी रखेंगे।

इसने एकबार फिर भारत के मामले में हस्तक्षेप करते हुए कहा कि वह जम्मू-कश्मीर के लोगों के प्रति अपना समर्थन जारी रखेगा। बता दें कि पिछले साल 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से विशेष दर्जा वापस लिए जाने के बाद से पाकिस्तान भारत के खिलाफ भड़काऊ बातें कर रहा है। भारत ने दुनियाभर के हर मंच पर इस बात को पूरे जोर से दोहराया है कि जम्मू-कश्मीर भारत का अभिन्न अंग है और किसी भी देश को हमारे आंतरिक मामले में हस्तक्षेप का अधिकार नहीं है।
 

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close