उत्तर प्रदेश

झुमका तिराहे का विरोध, ‘तो बर्फी चौराहा बनाएंगे’

बरेली
उत्‍तर प्रदेश के ब
रेली में झुमका तिराहा बनाने को लेकर सियासत शुरू हो गई है। राज्‍य सरकार की तरफ से झुमके को बरेली की पहचान के तौर पर स्थापित करने के खिलाफ बीजेपी के विधायक ने ही मोर्चा खोल दिया है। फरीदपुर विधायक डॉ. श्याम बिहारी लाल का कहना है कि गौरवशाली शहर बरेली की पहचान बताने के लिए झुमका ही मिला? डॉ. बिहारी ने जीरो पॉइंट पर झुमका लगाने को लेकर तीखी नाराजगी जताते हुए इसे संस्कृति के खिलाफ बताया है। उनका कहना है कि झुमका को बरेली की पहचान बताना सांस्कृतिक रूप से दिवालिया होने जैसा है। उन्होंने अपनी फेसबुक पोस्ट में लिखा है कि 'बरेली की बर्फी' फिल्म में बरेली जुड़ा हुआ है तो क्या अब बर्फी चौराहा भी बनाया जाएगा।

विधायक ने कुछ नेताओं पर कटाक्ष करते हुए अपनी पोस्ट में लिखा है कि शिव नगरी या नाथ नगरी का नाम लेने पर उन्हें डर लगता है। उन्होंने लिखा है कि पहचान ही बनाना था तो बरेली के अहिच्छत्र से प्राप्त गंगा जमुना और कुबेर की मूर्तियों को बनवाया होता। 1857 के स्वतंत्रता संग्राम आंदोलन में बरेली का महान योगदान था।

जारी है झुमका तिराहे का विरोध
गौरतलब है कि करीब 5 दशक पहले अभिनेत्री साधना पर एक गाना 'झुमका गिरा रे, बरेली के बाजार में' फिल्माया गया था। शनिवार को बरेली के जीरो पॉइंट पर झुमके का उद्घाटन केंद्रीय मंत्री संतोष गंगवार ने किया था। अब यह चौराहा झुमका तिराहे के नाम से जाना जाएगा, लेकिन इसके साथ ही विरोध भी शुरू हो गया। बीजेपी विधायक के फेसबुक पर आलोचना से पहले बरेली के मेयर ने भी विरोध जताया था। झुमका कार्यक्रम में मेयर डॉ. उमेश गौतम ने दूरी बनाए रखी। निगम अधिकारी और पार्षद भी शामिल नहीं हुए। मौलाना तौकीर ने शहीद के नाम से तिराहे का नाम रखने की मांग की है।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close