राजनीति

संसद के दोनों सदनों के लिए BJP का व्हिप, ट्रेंड करने लगा यूनिफॉर्म सिविल कोड

नई दिल्ली
भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) बीजेपी ने एक विप जारी करके अपने सभी सांसदों को मंगलवार को अपने-अपने सदनों में उपस्थित रहने के लिए कहा है। इस विप के बाद अटकलें तेज हो गईं कि मोदी सरकार मंगलवार को क्या कोई विधेयक लाने वाली है? मामला इसलिए भी खास है कि मंगलवार को जहां दिल्ली विधानसभा चुनाव के नतीजे आने हैं, वहीं यह बजट सत्र के पहले चरण का आखिरी दिन भी है। वैसे मंगलवार को शाम चार बजे से राज्यसभा में वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण बजट पर उठाए गए सवालों का जवाब भी देंगी।

बीजेपी ने तीन लाइन के विप में सरकार के रुख का समर्थन करने के लिए सांसदों से उपस्थित रहने को कहा है। ऐसे में क्या सांसदों को किसी विधेयक पर वोटिंग के लिए उपस्थित रहने को कहा है या फिर बजट पर निर्मला के जवाब का समर्थन देने से ही मामला जुड़ा है, इसको लेकर अटकलें लगाई जा रही हैं। इस बजट सत्र के शुरू होने से पहले ही सरकार बता चुकी है कि उसका लक्ष्य 45 विधेयक पास कराना है। मगर पहले चरण के आखिरी दिन यानी 11 फरवरी को सरकार कौन सा विधेयक पेश करेगी, इस पर कोई खुलकर बोलने को तैयार नहीं है।

केन्द्रीय बजट पर बोलेंगी सीतारमण
बजट सत्र के अंतिम दिन केन्द्रीय वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण द्वारा केंद्रीय बजट पर लोकसभा और राज्यसभा में चर्चाओं का जवाब देने की उम्मीद है। सीतारमण के पहले लोकसभा और उसके बाद राज्यसभा में बोलने की उम्मीद है। एक फरवरी को पेश हुए केंद्रीय बजट पर पिछले कुछ दिन से संसद में चर्चा चल रही है। विपक्षी सदस्यों ने जहां सरकार पर आर्थिक सुस्ती और बेरोजगारी के 'रेकॉर्ड स्तर' को लेकर हमला बोला है, वहीं सत्तापक्ष के सदस्यों ने बजट में विभिन्न पहलों के लिए केंद्र की प्रशंसा की है।

दलितों की नाराजगी दूर करने का प्लान?
पार्टी के ही लोगों को इस बारे में पुख्ता जानकारी नहीं है कि यह विप क्यों जारी किया गया है। हालांकि कहा जा रहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने जिस तरह से अपने एक फैसले में प्रमोशन को मौलिक अधिकार नहीं माना, उससे विपक्ष केंद्र सरकार पर हमलावर है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बीजेपी और आरएसएस को आरक्षण के खिलाफ बता दिया है। खुद सरकार के सहयोगी एलजेपी के सांसद भी सुप्रीम कोर्ट के फैसले पर सवाल उठाते नजर आए। उससे सरकार दलितों की संभावित नाराजगी को दूर करने के लिए राज्यसभा में कुछ कर सकती है।

बजट सत्र के पहले चरण का आखिरी दिन
बता दें कि साल 2018 में एससी, एसटी कानून में सुप्रीम कोर्ट की ओर से बदलाव किए जाने पर देशभर में हिंसक प्रदर्शन हुए थे, जिसके बाद मोदी सरकार ने कानून बनाकर कोर्ट के फैसले को पलट दिया था। बीजेपी के अंदरखाने जनसंख्या नियंत्रण कानून के लिए विधेयक लाए जाने की भी चर्चा है। 31 जनवरी से शुरू हुए बजट सत्र के पहले चरण का 11 फरवरी को समापन है। इसके बाद फिर दो मार्च से तीन अप्रैल तक बजट सत्र का दूसरा चरण चलेगा।

Tags

Related Articles

Back to top button
Close
Close