विश्व

राष्ट्रपति शी जिनपिंग चीनियों को मोटापे से बचाने में जुटे

पेइचिंग
चीन में आधे से अधिक लोग मोटापे का सामना कर रहे हैं। राष्ट्रपति शी जिनपिंग की कम्युनिस्ट पार्टी ने कई सरकारी योजनाओं को लॉन्च किया है। इसके जरिए देश में बढ़ते मोटापे की समस्या से लोगों को बाहर निकालने की कोशिश की जा रही है। साल 2002 में चीन में मोटापे का सामना कर रहे लोगों की तादाद 29 फीसदी थी। चीन के राष्ट्रीय स्वास्थ्य आयोग की रिपोर्ट में 50 फीसदी से अधिक वयस्कों में अधिक वजन दर्ज किया गया है। इनमें से 16.4% लोग मोटे हैं। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि हाल के दशकों में देश की तीव्र आर्थिक वृद्धि ने जीवन शैली, आहार और व्यायाम की आदतों में बड़े बदलाव लाए हैं। मोटापे के कारण चीनी लोगों में हृदय रोग, स्ट्रोक और मधुमेह सहित कई बीमारियों के लिए जोखिम भी बढ़ गया है। कोरोना वायरस के संक्रमण के दौरान चीनी लोगों के मोटापे की ओर सरकार का ध्यान गया। कई स्टडीज से भी यह पता चला है कि मोटे लोगों को कोरोना वायरस का खतरा ज्यादा होता है। चीन के पोषण मामलों के विशेषज्ञ वांग दान ने कहा कि देश में कई वयस्क अब बहुत कम व्यायाम करते हैं, वे बहुत अधिक दबाव में हैं। उनका वर्क शेड्यूल भी बहुत अस्वास्थ्यकर है।

इस कारण चीनियों में बढ़ा मोटापा
इस रिपोर्ट में लोगों के बढ़ते मोटापे के लिए शारीरिक गतिविधि के घटते स्तर को जिम्मेदार ठहराया गया है। चीन की कुल वयस्क आबादी के एक चौथाई लोग ही सप्ताह में एक बार व्यायाम करते हैं। रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि लोगों के खाने में मांस की अधिकता हो गई है। जबकि, ये लोग फलों और सब्जियों का सेवन कम कर रहे हैं। इसे भी लोगों में मोटापा बढ़ने का बड़ा कारण माना गया है।

दुनिया के कई देशों में मोटापा बना गंभीर
दुनिया में चीन ही एकलौता देश नहीं है जहां मोटापे की समस्या गंभीर हुई है। इस साल की शुरुआत यानी 2020 में ही विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) ने बताया कि दुनिया भर में मोटापे का स्तर 1975 के बाद तीन गुना हो गया है। इनमें निम्न और मध्यम आय वाले देश (विकासशील देश) शामिल हैं। डब्ल्यूएचओ के अनुमान के अनुसार, 2016 में लगभग 40 फीसदी वयस्क अधिक वजन वाले थे जबकि लगभग 13 फीसदी मोटे थे।
 

Related Articles

Back to top button
Close
Close