छत्तीसगढ़

पुलिस की तत्परता से गुम हुई 5 बालिका ग्वालियर स्टेशन पर सुरक्षित उतारी गई

राजनांदगांव
जिले के ग्रामीण क्षेत्रो से लापता हुई 5 बालिकाओ को पुलिस की सायबर सेल टीम ने रिपोर्ट के चंद घंटो बाद पता कर रेसक्यू कर उन्हे मध्य प्रदेश के ग्वालियर स्टेशन पर ट्रेन से सुरक्षित उतार लिया।

प्राप्त समाचारो के अनुसार 19 जनवरी को ग्राम बापूटोला के 4 परिवार एवं ग्राम आंवराटोला के 1 परिवार के सदस्यो ने चिचोला थाने मे शिकायत दर्ज कराई कि 5 लड़किया  जो कि आपस में सहेली है 18 जनवरी से लापता हो गयी। काफी तलाश के बावजूद उनका कुछ पता नही लगा। शिकायत पर रिपोर्ट दर्ज कर प्रभारी पुलिस चौकी चिचोला द्वारा जिले के वरिष्ठ अधिकारियों को घटना के संबंध में जानकारी दी गई एवं सायबर सेल को भी जानकारी साझा की।

मामले की गंभीरता को देखते हुए पुलिस कप्तान संतोष सिंह के निर्देशन एवं अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक डोंगरगढ़ जयप्रकाश बढ़ई के मार्गदर्शन एवं एस.डी.ओ.पी. डोंगरगढ़ कृष्णा पटेल के नेतृत्व में चिचोला पुलिस एवं सायबर सेल की टीम सक्रिय हुई और बालिकाओं को ढूंढने हेतु अलग अलग क्षेत्र में टीम को रवाना किया गया। इसी बीच विश्वसनीय सुत्रों से जानकारी प्राप्त हुई कि पांचों बालिकाओं को 18 जनवरी को दोपहर को डोंगरगढ़ रेल्वे स्टेशन के आसपास देखा गया है। तत्काल पुलिस टीम द्वारा रेल्वे स्टेशन एवं आसपास के सी.सी.टी.व्ही. फुटेज को बारिकी से खंगाला गया। जिससे पता चला कि सभी बालिकायें छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस ट्रेन में बैठ कर रवाना हुई है। तत्काल सायबर सेल द्वारा ट्रेन का लाईव्ह लोकेशन पता किया ट्रेन का लोकेशन झांसी और ग्वालियर के बीच होने से आरक्षक मनीष मानिकपुरी सायबर सेल राजनांदगांव द्वारा आ.पी.एफ. क्राईम नागपुर के प्रभारी विकास सिंह से सम्पर्क किया गया जिनकी सहायता से आर.पी.एफ. प्रभारी ग्वालियर संजय कुमार आर्या से फोन के माध्यम से सम्पर्क कर मामले की सम्पूर्ण जानकारी दी गई साथ ही मेल के माध्यम से गुम बालिकाओं का नाम, पता और फोटो भेजा गया। जिसपर प्रभारी आर.पी.एफ. ग्वालियर द्वारा तत्परता दिखाते हुए अपनी पूरी टीम को सक्रिय किया।

छत्तीसगढ़ एक्सप्रेस के ग्वालियर स्टेशन पहुंचने पर सर्च अभियान चलाकर एस.-2 बोगी से सभी गुम बालिकाओं को सकुशल ट्रेन से उतारा गया। पुलिस कप्तान राजनांदगांव  द्वारा तत्काल बालिकाओं को सकुशल लाने हेतु पुलिस चौकी चिचोला की टीम को ग्वालियर रवाना किया गया।

Related Articles

Back to top button
Close
Close