देश

रेलवे स्टेशन से नौकरी देने के बहाने युवकों को लाता था घर, बंधक बनाकर करता था गंदा काम

नई दिल्ली
समाज में तरह-तरह के विकृत और गलत मानसिकता के लोग होते हैं। कभी-कभार यह मानसिक रोग दूसरे लोगों के लिए मुसीबत भी बन जाता है। दिल्ली पुलिस ने एक ऐसे ही एक विकृत मानसिकता वाले शख्स को गिरफ्तार है, जिसने कई युवकों को कुकर्म का शिकार बनाया है।  आरोपित का नाम रहीस खान है। आरोप है कि रहीस खान रोजाना पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन जाता था और वहां से कामगारों को पकड़कर लाता था। इसके बाद नौकरी देने के नाम उनका आधार कार्ड और अन्य कागजात रख लेता था। इसके बाद उन्हें ब्लैकमेल करके कुकर्म करता था।

दिल्ली पुलिस ने एक किशोर की शिकायत के आधार पर रहीस खान नाम को गिरफ्तार किया तो पूरे मामले का खुलासा हुआ। आरोप है कि रहीस खान खासकर युवकों को किसी न किसी बहाने अपने साथ लेकर आता था और फिर उनके साथ कुकर्म करता था। इसके साथ ही वह यह धमकी भी देता था कि किसी को बताया तो जान से मार दिया जाएगा।

नौकरी का झांसा देकर करता था कुकर्म
दिल्ली पुलिस ने गिरफ्तार रहीस खान से पूछताछ की तो उसने बताया कि युवकों को नौकरी का झांसा देता था। इसके बाद मिलने के बुलाता था और फिर बंधक बना लेता था। इसके बाद युवकों से कुकर्म करता था। बताया जा रहा है कि रहीस खान अब तक 10 युवकों को बंधक बनाकर कुकर्म कर चुका है।

शिकायत पर पुलिस ने किया गिरफ्तार
दरअसल, एक किशोर ने रहीस खान को लेकर दिल्ली पुलिस को शिकायत दी थी कि वह उससे कुकर्म की कोशिश में था, लेकिन वह किसी तरह वहां से बच निकला। उधर, किशोर की शिकायत पर चांदनी महल पुलिस ने आरोपित रहीस खान को गिरफ्तार कर लिया। दिल्ली पुलिस ने जांच पड़ताल आगे बढ़ाई तो उसे आरोपित के घर से 10 आधार कार्ड और पांच मोबाइल फोन भी बरामद हुए।

रेलवे स्टेशन पर जाता था युवकों को फंसाने के लिए
पुलिस पूछताछ में खुलासा हुआ है कि युवकों को फंसाने के लिए आरोपित रोज पुरानी दिल्ली रेलवे स्टेशन जातका था। नौकरी का झांसा घर बुलाता था। इसके बाद पीड़ितों के फोन एवं अन्य जरूरी कागजात रखकर बंधक बना लेता था।

मानसिक रोगी लगता है आरोपित रहीस
दिल्ली पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार, आरोपित रहीस पर जोधपुर (राजस्थान) में भी कुकर्म का मुकदमा  दर्ज है। दरअसल, चार अगस्त को एक किशोर चंगुल से भागकर दिल्ली पुलिस के पास पहुंचा। तब मामला सामने आया और राजस्थान में कुकर्म की बात सामने आई।

Related Articles

Back to top button
Close
Close